जनलोकपाल में खंड जोड़ने के लिए विनती

यहाँ पूरे जन्लोक्पल ड्राफ्ट पर चर्चा करें (केवल 2 पेज के पर्चे पर नहीं) ; Please discuss here on FULL Janlokpal draft (not just the 2 page pamphlet)

Moderators: kmoksha, sumit

Post Reply
janta mat
Posts: 59
Joined: Sat Feb 19, 2011 3:17 pm

जनलोकपाल में खंड जोड़ने के लिए विनती

Post by janta mat » Thu Apr 28, 2011 9:12 pm

जनलोकपाल में `राईट टू रिकाल-लोकपाल` और `पारदर्शी शिकायत प्रणाली` के खंड जोड़ने के लिए विनती

खुला पत्र अन्ना जी को – एक आम आदमी द्वारा

(यदि आप, पाठक को ये प्रस्ताव पसंद हैं, तो कृपया ये पत्र अन्नाजी, सभी को भेजें)

• ऑनलाइन: फॉर्म भरें http://www.lokpalbillconsultation.org/ पर
• ई-मेल : ई-मेल भेजें lokpalbillcomments@gmail.com पर
• डाक-मेल : अपने सुझाव डाक से भेजें निम्नलिखित पते पर -
Lokpal Bill Public Consultation
A-119, Kaushambi
Ghaziabad – 201010

प्रिय अन्ना जी,

तानाशाह की भाँती , १० लोकपालों के पास अधिकार होगा किसिस को भी निलम्बित करने को | तानाशाह के असमान वे बाध्य नहीं होंगे अन्न,विकास और अपराधी और विदेशी सेनाओं से सुरक्षा प्रदान करने के लिए | पूर्ण शक्ति,कोई प्रतिबद्धता नहीं | इसीलिए मुझे भय है कि लोकपाल भ्रष्ट, भाई-बतीजेवाद से ग्रस्त और बहुराष्ट्रीय कंपनियों के एजेंट बन जाएँगे |

आप कहते हैं “ लोकपाल प्रधानमन्त्री, उच्चतम न्यायलय के न्यायाधीश , उच्च न्यायालय के न्यायधीश, भारत के नियंत्रक-महालेखापरीक्षक (CAG), मुख्य चुनाव आयुक्त (CEC) द्वारा पारदर्शी तरीके से (?) नियुक्त किये जाएँगे | मैं इससे असहमत हूँ --- नियुक्ति की प्रक्रियाएं कुछ भी आश्वासन नहीं देती | नियुक्ति के बाद रोकथाम/निरोध आवश्यक है | मैंने ड्राफ्ट के पूरे ४० पन्ने देखे | केवल रोकथाम मैंने सैक्शन-७ में देखा जो कह रहा है कि उच्चतम न्यायलय के नयायाधीश लोकपाल को निकाल सकते हैं | अभी उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीश मंत्री जितने ईमानदार हैं | इसीलिए सैक्शन-७ बेकार है |

तो मैंने कोई भी खंड नहीं देखा जो लोकपाल की भ्रष्ट , भाई-बतीजेवाद से ग्रस्त, बहुराष्ट्रीय कंपनियों के एजेंट बनने और भारत को नकद या विदेशी पुरस्कार के लिए बेच देने से रोकथाम करे | इसकी रोकथाम करने के लिए, मैं आप को विनती करतानिम्न/करती हूँ कि आप निम्नलिखित खंड जोड़ें : ( यथार्थ खंड http://www.righttorecall.info/404.pdf में हैं और स्पष्टीकरण http://www.righttorecall.info/004.h.pdf में हैं )

मैं ने लोकपाल परामर्श वेबसाइट पर निम्नलिखित प्रस्तावित परिवर्तनों को डाला दिया और ये संख्या नंबर दिया है #(वास्तविक नंबर डालें):

1. प्रजा अधीन लोकपाल (राईट टू रिकाल भ्रष्ट लोकपाल ): सूचना अधिकार विफल हो गया है क्योंकि हम नागरिकों के पास सूचना आयुक्त पर राईट टू रिकाल (प्रजा अधीन सूचना आयुक्त) नहीं है | अनशन के दौरान , मैंने सूना था कि राईट टू रिकाल लोकपाल आएगा टी.वी पर | लेकिन मैंने जनलोकपाल ड्राफ्ट में कोई भी राईट टू रिकाल लोकपाल के खंड नहीं देखे अभी तक | इसीलिए यदि लोकपाल भ्रष्ट हो जाता है , हम नागरिक बर्बाद हो जाएँगे | महर्षि दयानद कहते हैं “ राजा प्रजा-अधीन होना चाहिए और यदि राजवर्ग प्रजा-अधीन नहीं है, तो राजवर्ग नागरिकों को लूट लेंगे और देश का विनाश कर देंगे |” राईट टू रिकाल लोकपाल(प्रजा अधीन लोकपाल ) लोकपाल को भ्रष्ट होने से रोकेगा .प्रजा अधीन लोकपाल के खंड जो मैंने प्रस्तावित किये हैं http://www.righttorecall.info/403.pdf में हैं | कृपया इससे श्रेष्ट या ये प्रजा अधीन लोकपाल के खंड जनलोकपाल ड्राफ्ट में जोड़ें अगले कुछ हफ्रों में और इसको अगले जन्म तक टाल नहीं दें | और कृपया हमें जल्द से जल्द बताएं कि क्या आप राईट टू रिकाल लोकपाल का विरोध करते हैं ?

2.कृपया कम से कम जनलोकपाल में पारदर्शी शिकायत प्रणाली डालें ;यदि प्रजा अधीन लोकपाल आप के लिए बहुत ज्यादा है तो कृपया पारदर्शी शिकायत प्रणाली हमें कम से कम दें (i) कोई भी नागरी कलक्टर के दफ्तर जा सकता है और अपना सुझाव/फीडबैक नियुक्ति समीति को (सैक्शन-6.10.b) या लोकपाल को शिकायत दे सकता है एफिडेविट के रूप में दे सकता है | कलक्टर का कलर उसको स्कैन करेगा और वो पत्र लोपाल के वेबसाईट पर डालेगा एक शुल्क ले कर | प्रयोजन: शिकायत की प्रतियाँ कलक्टर, मुख्यमंत्री, प्रधानमंत्री, लोकपाल , याहू , गूगल, और अनेकों सर्वर पर आ जाएँगी | ये सुनिश्चित करेगा कि भ्रष्ट लोकपाल बाद में शिकायतों से पन्ने निकाल नहीं सकता | (ii) कोई भी नागरिक पटवारी/टलाती के दफ्तर जा सकता है और शिकायत में अपना नाम जोड़ सकता है तीन रुपया शुल्क दे कर | प्रयोजन:यदि हजारों नागरिक की एक ही शिकायत होती है ,तो सभी को कलक्टर के दफ्तर जाना नहीं होगा और कोई क़ानून-व्यवस्था की समस्या नहीं पैदा होगी | कृपया हमें बताएं कि क्या आप पारदर्शी शिकायत प्रणाली का समर्थन करते हैं ?

3.कृपया जनलोकपाल ड्राफ्ट हिंदी में उपलब्ध करवायें : जनलोकपाल ड्राफ्ट जो अंग्रेजी में हैं अमेरिका के नियमों से अधिक जटिल हैं जो मैंने पढें हैं !! (कृपया अमेरिका का संविधान और जन्लोक्पाल ड्राफ्ट पढें ) कृपया हिंदी में ड्राफ्ट उपलब्ध करवाएं जल्द से जल्द | या क्या आप आग्रह करते हो कि हम जन साधारण को कभी भी ड्राफ्ट नहीं पढ़ना चाहिए ? क्यों नहीं ?

4. कृपया जनता को लोकपाल परामर्श वेबसाइट पर सुझावों को देखने दें पारदर्शिता बढाने के लिए और कृपया जनमत सर्वेक्षण डालें, ताकि हमें पता चले कि कौन से सुझाव समर्थित या अस्वीकृत हुए कितने कार्यकर्ताओं द्वारा |

मैं कार्यकर्ताओं से विनती करता हूँ कि नरेंद्र मोदी आदि पर टिपण्णी को नजरंदाज करें क्योंकि वे हमें असली विषय से हटाती है : खंड जो आवश्यक हैं लोकपाल को भ्रष्ट बाने से रोकने के लिए |

प्रजा अधीन राजा समूह के बारे में
:हम कार्यकर्तओं से विनती करते हैं की चुनाव लडें और समाचार पत्र विज्ञापन, पैम्फलेट बांटें नागरिकों को सूचना देने के लिए राईट टू रिकाल(प्रजा अधीन ) प्रधान मंत्री/मुख्यमंत्री , राईट टू रिकाल न्यायाधीश ,राईट टू रिकाल लोकपाल क़ानून और “पारदर्शी शिकायत प्राणाली” क़ानून भारत को कैसे सुधार सकता है. अधिक विवरण के लिए, कृपया पढें- http://www.righttorecall.info/301.pdf

आप का ,

क ख ग |

Post Reply

Return to “जनलोकपल ड्राफ्ट पर चर्चा ; Janlokpal Draft Discusson”